in

नटखट बंदर – Kahaniya | Hindi Kahani … – HiShayari

नटखट बंदर

एक
बार कुछ बंदर पेड़ की डालियों पर बैठे थे। वे नीचे देख रहे थे। नीचे कुछ
बढ़ाई लकड़ी चीर रहे थे। दोपहर को जब बढ़ाई खाने जाए तब बंदर पेड़ से नीचे
उतर आए। उन्होंने बढ़ाई के काम को पास जाकर देखा।


एक बंदर एक लकड़ी के
गटठे पर चढ़ गया वह गया। वह गटठा बीच से  चीरा हुआ था। उसके दोनों भागों को
अलग-अलग रखने के लिए एक पचचर छोटी लकड़ी उनके बीच लगा दी गई थी। बंदर ने
पचचर को हिलाया और उससे बाहर निकाल लिया। 

तभी उसकी पूँछ चीरे हुए गटठे में
फँस गई। वह दर्द से तड़पता हुआ जोर – जोर से चिल्लाने लगा। बाकी सब बंदर
उसके पास खड़े हो गए। कोई उसकी मदद नहीं कर पा रहा था। जब बढ़ाई वापस आए तो
सब बंदर पेड़ पर चढ़ गए। 

जिस बंदर की पूँछ फँसी थी वह वहीं रह गया। एक
बढ़ई ने कहा -अरे जिसकी पूँछ तो बुरी तरह फँसी हुई है। बढ़ई ने गटठे में
फिर से पचचर लगा दी। बंदर की पूँछ बाहर निकल आई। वह आपनी पूँछ थामे भाग
खड़ा हुआ।

 Natakhat Bandar
ek
baar kuchh bandar ped kee daaliyon par baithe the. ve neeche dekh rahe
the. neeche kuchh badhaee lakadee cheer rahe the. dopahar ko jab badhaee
khaane jae tab bandar ped se neeche utar aae. unhonne badhaee ke kaam
ko paas jaakar dekha.
ek bandar ek lakadee ke gatathe par chadh gaya
vah gaya. vah gatatha beech se  cheera hua tha. usake donon bhaagon ko
alag-alag rakhane ke lie ek pachachar chhotee lakadee unake beech laga
dee gaee thee. bandar ne pachachar ko hilaaya aur usase baahar nikaal
liya. tabhee usakee poonchh cheere hue gatathe mein phans gaee. vah dard
se tadapata hua jor – jor se chillaane laga. baakee sab bandar usake
paas khade ho gae. koee usakee madad nahin kar pa raha tha. jab badhaee
vaapas aae to sab bandar ped par chadh gae. jis bandar kee poonchh
phansee thee vah vaheen rah gaya. ek badhee ne kaha -are jisakee poonchh
to buree tarah phansee huee hai. badhee ne gatathe mein phir se
pachachar laga dee. bandar kee poonchh baahar nikal aaee. vah aapanee
poonchh thaame bhaag khada hua.

What do you think?

Written by Admin

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0

हिन्दी कविताएँ | Haan Jee Haan Jee – HiShayari

हिंदी कहानी | बड़ा हाथी नन्हा कछुआ – Hishayari…