पर्यावरण एवं वन - संरक्षण



Hindi Kavitayen

हमको जीवन देता है यह पर्यावरण हमारा।
जिससे नष्ट करने से होगा जीवन नष्ट हमारा ।।
अज्ञानी हम ज्ञान राशि औरों को बाँट रहे हैं ।
उसी डाल पर बैठ उसी को जड़ से काट रहे हैं।।



प्रकृति माँ ने पाला हमको अपना दूध पिलाकर।
उसको हे पीड़ित करते हम, कण-कण जला - जलाकर।।
सोचो फिर कैसे हो पाएगा कल्याण हमारा।
इसे नष्ट करने से होगा जीवन नष्ट हमारा।।



पेट - फाड़कर पर्वत का हम पत्थर - बजरी लाते ।
काट - काटकर लकड़ी नग को नंगा जाते ।।
नंगे पर्वत और किसी चीज की क्यों कर शर्म करेंगे
निश्चित हमें भोगने होंगे जैसे कर्म करेंगे ।।



कुदरत को अपमानित कर कैसे हो मान हमारा ।
इसे नष्ट करने से होगा जीवन नष्ट हमारा।।
धरती मँ ने अनन - फूल - फल देखकर हमको पाला ।।
रस बरसाते सूयज - चंद्रमा देकर हमें उजाला ।।


पवन प्राण बन सवयं हमारी शवासों में बसते हैं ।।
इंद्र सवय जलधारा के इस कण कण में हंसते हैं ।।
मानवता को मिला निरंतर सुखकर सत्य सहारा ।
इसे नष्ट करने से होगा जीवन नष्ट हमारा ।।



इसका करिए ध्यान जीवन को चाहो अगर बचाना ।।
लगा सको जितने ज्यादा धरती पर पेड़ लगाना ।।
सरिता - सर का जल जीवन की प्रतिपल प्यास बुझाता ।।
प्रकृति प्राणियों का सचमुच है माँ - बेटे का नाता।।


पुत्रों के नाते समझो क्या है कर्तव्य हमारा ।।
इसे नष्ट करने से होगा जीवन नष्ट हमारा ।।





paryaavaran evan van - sanrakshan
  hamako jeevan deta hai yah paryaavaran hamaara. jisase nasht karane se hoga jeevan nasht hamaara .. agyaanee ham gyaan raashi auron ko baant rahe hain . usee daal par baith usee ko jad se kaat rahe hain.. prakrti maan ne paala hamako apana doodh pilaakar. usako he peedit karate ham, kan-kan jala - jalaakar.. socho phir kaise ho paega kalyaan hamaara. ise nasht karane se hoga jeevan nasht hamaara.. pet - phaadakar parvat ka ham patthar - bajaree laate . kaat - kaatakar lakadee nag ko nanga jaate .. nange parvat aur kisee cheej kee kyon kar sharm karenge nishchit hamen bhogane honge jaise karm karenge .. kudarat ko apamaanit kar kaise ho maan hamaara . ise nasht karane se hoga jeevan nasht hamaara.. dharatee man ne anan - phool - phal dekhakar hamako paala .. ras barasaate sooyaj - chandrama dekar hamen ujaala .. pavan praan ban savayan hamaaree shavaason mein basate hain .. indr savay jaladhaara ke is kan kan mein hansate hain .. maanavata ko mila nirantar sukhakar saty sahaara . ise nasht karane se hoga jeevan nasht hamaara .. isaka karie dhyaan jeevan ko chaaho agar bachaana .. laga sako jitane jyaada dharatee par ped lagaana .. sarita - sar ka jal jeevan kee pratipal pyaas bujhaata .. prakrti praaniyon ka sachamuch hai maan - bete ka naata.. putron ke naate samajho kya hai kartavy hamaara .. ise nasht karane se hoga jeevan nasht hamaara ..





Post a Comment

Previous Post Next Post