कविताएँ | Hindi Poems | Poetry -Hishayari...
लव पे आती है दुआ

लब पे आती है दुआ बनके तमन्ना मेरी

जिंदगी शमअ की सूरत हो खुदाया मेरी।

दूर दुनिया का मेरे कदम से अंधेरा हो जाए

हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाए ।

                                                       हो मेरे दम से यूँ मेरे वतन की जीनत

                                             जिस तरह फूल से होती है चमन की जीतन।

                                                जिंदगी हो मेरी परवाने की सूरत या रब

                                        इलम की शमअ से हो मुझको मोहब्बत या रब।

हो मेरा काम गरीबों  की हिमायत करना

दर्द -मदों से. जइफों से मोहबबत करना।

मेरे अल्लाह बुराई से बचाना मुझको

नेक जो राह हो उस राह पे चलाना मुझको।




-------इकबाल

Post a Comment

Previous Post Next Post