Wednesday, January 22, 2020

Hindi Story | Hindi Kahaniyan For Kids | हिंदी कहानियाँ, कथाएँ...

SHARE
लालची कौवा 
 
पेड़ की एक हरी डाल पर चिड़िया का घोंसला था। चिड़िया घोंसले में बैठी अपने अंडे से रही थी । अचानक कहीं से एक कौवा उड़ कर आया और चिड़याँ से बोला, चिड़याँ -चिड़याँ मैं तेरे अंडे आऊँगा। चिड़िया बेचारी डर गई। उसने कहा, कौए  तुम मेरे अंडे मत खाओ। तुरंत कौए ने कहा, नहीं. मैं तो तेरे अंडे आऊँगा ।तब चिड़िया बोली, तेरी चोंच गंदी है। 

पहलै जाकर धो आ, फिर मेरे अंडे खा लेना। कौवा डाल पर से उड़ा और नदी के किनारे गया। नदी कल -कल करती बह रही थी। कौए ने कहा, नदी- नदी मुझे थोड़ा पानी दे दे। पानी से अपनी चोंच धोकर चिड़िया के अंडे खाऊँगा।मोदी ने कहा जाओ बर्तन ले आओ और पानी भर लो नदी के किनारे से उड़ता हुआ कौआ कुम्हार के पास गया।कुम्हार मिट्टी के बर्तन बना रहा था । कौए ने कहा, कुम्हार- कुम्हार मुझे एक बर्तन दे दो। मैं उसमें नदी से पानी लूँगा। पानी से अपनी चोंच धोकर चिड़िया के अंडे खाऊँगा।

कुम्हार ने कहा, जाओ मिट्टी ले आओ, मैं उसका बर्तन बना दूँगा। कुम्हार के पास से उड़कर कौआ खेत के पास गया और बोला खेत-खेत मुझे थोड़ी मिट्टी दे दो। मिट्टी से बर्तन बनवाऊँगा। बर्तन में नदी से पानी लूँगा। पानी से चोंच धोकर चिड़िया के अंडे खाऊँगा । खेतने कहा, जाओ खुरपा लाओ और मिट्टी खोद लो।वहाँ से उड़कर कौआ लोहार के पास गया। 

लोहार भटटी में खुरपा लाल कर रहा था। कौए ने उसके पास बैठकर कहा, लोहार- लोहार, मुझे एक खुरपा  दे दो। खुरपे से मिट्टी खदूँगा। मिट्टी से बर्तन बनाऊँगा। बर्तन में नदी से पानी लूँगा। पानी से अपनी चोंच धोकर चिड़िया के अंडे खाऊँगा।लोहार ने पूछा,  कैसा खुरपा चाहिए, काला या लाल। कौए ने कहा, लाल। तब लोहार ने भटटी में से अंगारे की तरह दहकता हुआ लाल खुरपा निकालकर कौए की पीठ पर रख दिया। कौआ वही जल भुनकर राख हो गया और चिड़िया के अंडे बच गए।





Laalachee Kauva 
  ped kee ek haree daal par chidiya ka ghonsala tha. chidiya ghonsale mein baithee apane ande se rahee thee . achaanak kaheen se ek kauva ud kar aaya aur chidayaan se bola, chidayaan -chidayaan main tere ande aaoonga. chidiya bechaaree dar gaee. usane kaha, kaue tum mere ande mat khao. turant kaue ne kaha, nahin. main to tere ande aaoonga .tab chidiya bolee, teree chonch gandee hai. 

pahalai jaakar dho aa, phir mere ande kha lena. kauva daal par se uda aur nadee ke kinaare gaya. nadee kal -kal karatee bah rahee thee. kaue ne kaha, nadee- nadee mujhe thoda paanee de de. paanee se apanee chonch dhokar chidiya ke ande khaoonga.modee ne kaha jao bartan le aao aur paanee bhar lo nadee ke kinaare se udata hua kaua kumhaar ke paas gaya.kumhaar mittee ke bartan bana raha tha . 

kaue ne kaha, kumhaar- kumhaar mujhe ek bartan de do. main usamen nadee se paanee loonga. paanee se apanee chonch dhokar chidiya ke ande khaoonga. kumhaar ne kaha, jao mittee le aao, main usaka bartan bana doonga. kumhaar ke paas se udakar kaua khet ke paas gaya aur bola khet-khet mujhe thodee mittee de do. mittee se bartan banavaoonga. 

bartan mein nadee se paanee loonga. paanee se chonch dhokar chidiya ke ande khaoonga . khetane kaha, jao khurapa lao aur mittee khod lo.vahaan se udakar kaua lohaar ke paas gaya. lohaar bhatatee mein khurapa laal kar raha tha. kaue ne usake paas baithakar kaha, lohaar- lohaar, mujhe ek khurapa de do. khurape se mittee khadoonga. mittee se bartan banaoonga. bartan mein nadee se paanee loonga. 

paanee se apanee chonch dhokar chidiya ke ande khaoonga.lohaar ne poochha, kaisa khurapa chaahie, kaala ya laal. kaue ne kaha, laal. tab lohaar ne bhatatee mein se angaare kee tarah dahakata hua laal khurapa nikaalakar kaue kee peeth par rakh diya. kaua vahee jal bhunakar raakh ho gaya aur chidiya ke ande bach gae.


pdf



SHARE

Author: verified_user