तू जिंदा है तो

तू जिंदा है तो जिंदगी की जीत में यकीन कर
अगर कहीं है स्वर्ग तो उतार ला जमीन पर ।
यह गम के और चार दिन, सितम के और चार दिन
ये दिन भी जाएँगे गुजर गुजर, गुजर गये हजार दिन ।
कभी तो होगी इस चमन पे भी बाहर की नजर
अगर कहीं है स्वर्ग तो उतार ला जमीन पर।
तू जिंदा है तो ....
 


सुबह और शाम के रंगे हुए गगन को चूमकर
तू सुनकर जमीन गा रही है कब से झूम - झूम कर
तू आ मेरा सिंगार कर तू आ मुझे हसीन कर
अगर कहीं है स्वर्ग तो उतार ला जमीन पर ।
तू जिंदा है तो..... 


हजार भेष धर के आई मौत तेरे दवार पर
मगर मुझे न छल सकी, चली गई वो हारकर
नई सुबह के संग, सदा तुझे मिली नई उमर
अगर कही है स्वर्ग तो उतार ला जमीन पर ।
तू जिंदा है तो ........
 


हमारे कारवाँ को मंजिलों का इंतजार है
ये आँधियों, ये बिजलियों की पीठ पर सवार है
तू आ कदम मिलकर चल, चलेंगे एक साथ हम
अगर कहीं है स्वर्ग तो उतार ला जमीन पर ।
तू जिंदा है तो...... 


जमीं के पेट में पली अगन, पले हैंं जलजले
टिके न टिक सकेंगे भूख रोके के स्वराज ये,
मुसीबतों के सर कुचल, चलेंगे एक साथ हम
अगर कहीं है स्वर्ग तो उतार ला जमीन पर।।
तू जिंदा है तो........
 


बुरी है आग पेट की, बुरे हैं दिल के दाग ये
न दब सकेंगे, एक दिन बनेंगे इंकलाब ये
गिरेंगे जुल्म के महल,बनेंगे फिर नवीन घर
अगर कहीं है  स्वर्ग तो उतार ला जमीन पर ।
तू जिंदा है तो.........

---------------शंकर शैलेंद्र




Too jinda hai to
too jinda hai to jindagee kee jeet mein yakeen kar
agar kaheen hai svarg to utaar la jameen par .
yah gam ke aur chaar din, sitam ke aur chaar din
ye din bhee jaenge gujar gujar, gujar gaye hajaar din .
kabhee to hogee is chaman pe bhee baahar kee najar
agar kaheen hai svarg to utaar la jameen par.
too jinda hai to ....
subah aur shaam ke range hue gagan ko choomakar
too sunakar jameen ga rahee hai kab se jhoom - jhoom kar
too aa mera singaar kar too aa mujhe haseen kar
agar kaheen hai svarg to utaar la jameen par .
too jinda hai to.....
hajaar bhesh dhar ke aaee maut tere davaar par
magar mujhe na chhal sakee, chalee gaee vo haarakar
naee subah ke sang, sada tujhe milee naee umar
agar kahee hai svarg to utaar la jameen par .
too jinda hai to ........
hamaare kaaravaan ko manjilon ka intajaar hai
ye aandhiyon, ye bijaliyon kee peeth par savaar hai
too aa kadam milakar chal, chalenge ek saath ham
agar kaheen hai svarg to utaar la jameen par .
too jinda hai to......
jameen ke pet mein palee agan, pale hainn jalajale
tike na tik sakenge bhookh roke ke svaraaj ye,
museebaton ke sar kuchal, chalenge ek saath ham
agar kaheen hai svarg to utaar la jameen par..
too jinda hai to........
buree hai aag pet kee, bure hain dil ke daag ye
na dab sakenge, ek din banenge inkalaab ye
girenge julm ke mahal,banenge phir naveen ghar
agar kaheen hai  svarg to utaar la jameen par .
too jinda hai to.........


---------------shankar shailendar





Post a Comment

Previous Post Next Post