Sunday, March 1, 2020

Badnaam Shayari | Badnaam Shayari 2 Lines | Shayari On Badnami...

SHARE
Badnaam Shayari
Badanaam kar jaata hai
Badnaam Shayari


Teree naam aksar mujhe,badanaam kar jaata hai
Laakh bachaata hun khud ko,kaun ye nek kaam kar jaata hai.


तेरी नाम अक्सर मुझे,बदनाम कर जाता है

लाख बचाता हूँ खुद को,कौन ये नेक काम कर जाता है
 
 
 
Wo badnaam pe badnaam dete hain
 
Ham palken bichha kar baithe hain wo aane ka naam nahi leten.
Wo badnaam pe badnaam dete hain wo rukne ka naam nahi leten.  
हम पल्कें बिछा कर बैठे हैं, वो आने का नाम नहीं लेते ।
वो बदनाम  पे बदनाम देते हैं, वो रुकने का नाम नहीं लेतें।
 
 
 
Pyar men itna badnaam sahna
 
Bijali girane wale itna to soch hota.
Laya tha mai kahan se tinke ye chun chun ke.
Pyar men itna badnaam sahna hota. 
 
बिजली गिरने वाले, इतना तो सोच लिया होता ।
लाया था मैं कहां से, तिनके ये चुन चुन के।
प्यार में इतना बदनाम सहना होता। 
 


Yadon me badnaam hokar rota
 
Jala huaa jangal chup kar rota raha.
Ham uski yadon me badnaam hokar rota raha.
जला हुआ जंगल छुप कर रोता रहा,
हम उसकी यादों में बदनाम होकर रोता रहा ।
 
 

Bato ka matlab dundte se
 
Kuchh chijen bewajah hoti hai.
Bato ka matlab dundte se achchha.
bato ko samajhna aur ji lena sikho.
Jindegi ki muskurahat fir laut aaeagi.

कुछ चीज़ें बेवजह होती है,
बातो का मतलन ढूंढने से अच्छा।
बातो को समझना और जी लेना सीखो,
ज़िन्दगी की मुस्कुराहट फिर लौट आएगी।
 
 
 Sath khud jo badnaam gai tum

Ab to koi khawahish na rahi tujhse.
Kyonki wakt ke sath khud jo badnaam gai tum.
 
अब तो कोई ख्वाहिश ना रही तुझसे।
क्योंकि वक्त के साथ खुद जो बदनाम गए तुम।
 
 

Hame badnaam ho gaye
 
Jami ki god me itna sookun tha ki.
Jo gaya wo safar ki thakan bhool gaya.
Aur hame badnaam ho gaye.
ज़मीं की गोद में इतना सुकून था कि।
जो गया वो सफ़र की थकान भूल गया।
और हमें बदनाम हो गये।
 
 
 



SHARE

Author: verified_user