एक डिबिया में चालीस चोर, सबका मुँह है  काला।
पूँछ पकड़कर आग लगाई, जगमग हुआ उजाला ।


Ek dibiya mein chaalees chor, sabaka munh hai  kaala.
poonchh pakadakar aag lagaee, jagamag hua ujaala .




तीन हाथ और पेट है गोल, सर-सर करते मेरे बोल।
गर्मी में मैं आता काम, मुझ बिन न होता आराम।


Teen haath aur pet hai gol, sar-sar karate mere bol.
garmee mein main aata kaam, mujh bin na hota aaraam.





मेरे होते कई आकार, फिर भी होते हैं पैर चार ।
जो कोई भी आता है, मुझमें आसन पाता है ।


Mere hote kaee aakaar, phir bhee hote hain pair chaar .
jo koee bhee aata hai, mujhamen aasan paata hai .


 
 


मिट्टी से मैं जीवन पाऊँ, प्यास सभी की दूर भगाऊँ ।

जाड़ों में करता आराम, गर्मी में मैं आता काम ।

Mittee se main jeevan paoon, pyaas sabhee kee door bhagaoon .
jaadon mein karata aaraam, garmee mein main aata kaam . 




Answer - 1.माचिस , 2.पंखा , 3.कुर्सी , 4.घड़ा  .



Post a Comment

Previous Post Next Post