Thursday, March 12, 2020

Maut Shayari | Maut Shayari 2 Lines | Maut Shayari In Hindi For Love...

SHARE
Maut Shayari
Aum maut ka paigaam nikale

Maut Shayari

Ek badanuma daag nikale, tum jahareele jaam nikale.
Maine tumhen jindageen samajha, tum maut ka paigaam nikale .


इक बदनुमा दाग निकले, तुम जहरीले जाम निकले।
मैने तुम्हें जिन्दगीं समझा, तुम मौत का पैगाम निकले ।
 
 
Usne mujhe mara sendel 
 
Maine use dekha engil badal badal ke.
Usne mujhe mara sendel badal badal ke.

मैंने उसे देखा एंगील बदल बदल के।
उसने मुझे मारा सेंडल बदल बदल के।
 


Mujhe maut bhi n aai
 
Chali ho tum is jahan se us jahan me.
Huaa meri jindegi parai.
Tumhen to mil gaya thikana aur
Mujhe maut bhi n aai.

चली हो तुम, इस जहाँ से उस जहाँ में,
हुआ मेरी जिन्दगी पराई।
तुम्हें तो मिल गया ठिकाना और
मुझे मौत भी न आई। 



Ussay bhi mera dukh dard ka ehsaas hai

Ussay bhi mera dukh dard ka ehsaas hai,
Aaj us ne keh jo diya aakhir,
Tum mar kyun nahin jaate.

उसे भी दुःख दर्द का एहसास हैं।
आज उसने कह जो दिया आखिर,
तुम मर क्यों नहीं जाते।



Samajh tum maut ka paigam nikle

Ik badnuma dag nikle tum jahrile jam nikle.
Maine tumhen jindegi samajh tum maut ka paigam nikle.

इक बदनुमा दाग निकले, तुम जहरीले जाम निकले।
मैने तुम्हें जिन्दगीं समझा, तुम मौत का पैगाम निकले ।
 
 
Elaan –e – mout huwa to logon
 
Elaan –e – mout huwa to logon ne ye kaha.
Ache hua ke mar giya bahot udass rehta tha.

एलान –ए-मौत हुआ तो लोगो ने ये कहा।
अच्छा हुआ की मर गया बहुत उदास रहता था। 
 
 
Aaya hoon jahaan se jaana hai
 
Aaya hoon jahaan se jaana hai phir laut wahin ek din.
Bas naam ko aawara hoon aur bas naam ka ek baadal hoon main.

आया हूं जहाँ से जाना है फिर लौट वहीं एक दिन।
बस नाम का आवारा हूं और बस नाम का एक बदल हूँ मैं। 



Log har mod pe ruk ruk ke sambhalte

Log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyu hai.
Itna darte hai to fir ghar se niklte kyu hai.
 
लोग हर मोड़ पे रूक रूक के संभालते क्यों है।
इतना डरते है तो फिर घर से निकलते क्यों है।  
 
 
Mout ki sarhad pe bhi teri salamat ki
 
Mout ki sarhad pe bhi teri salamat ki duaa magte hai.
Khuda unhen khush rakhna jinke liye ham ye duaan magte hai.

मौत की सरहद पे भी, तेरी सलामती की दुआ मांगते है ।
खुदा उन्हें खुश रखना, जिनके लिये हम ये दुआं मांगते है।

 
 
  




SHARE

Author: verified_user