Gulzar की लिखी गई ग़ज़लों से चुनिंदा हुआ प्रसिद्ध Shayari खास आप केे लिए पेश किए हैं । हम इस पोस्ट Gulzar Ki Shayari and Quotes को रोचक चित्र के साथ दर्शााया गया है। और लेख हिंदी और अंग्रेजी लिखी गई है और इस प्रकार Gulzar Shayari in Hindi, best shayari of gulzar, shayari on love, gulzar quotes in hindi, gulzar quotes on life hindi आदि । 

 

 Gulzar ki shayari

Gulzar ki shayari

Shaam se aankh mein namee see hai
Aaj phir aap kee kamee see hai

 शाम से आँख में नमी सी है।
आज फिर आप की कमी सी है।



 Chhota sa saaya tha, aankhon mein aaya tha
hamane do boondon se man bhar liya

छोटा सा साया था, आँखों में आया था
हमने दो बूंदों से मन भर लिया

 

 Jyaada kuchh nahin badalata umr ke saath
Bas bachapan kee jidd samajhauton mein badal jaatee hain

ज्यादा कुछ नहीं बदलता उम्र के साथ।
बस बचपन की जिद्द समझौतों में बदल जाती हैं।

Gulzar Shayari in Hindi

Gulzar Shayari in Hindi

Tere bina zindagi se koi Shikwa to nahi
Tere bina par zindagi bhi lekin Zindagi to nahi

तेरे बिना ज़िन्दगी से कोई शिकवा तो नहीं।
तेरे बिना पर ज़िन्दगी भी लेकिन ज़िन्दगी तो नहीं।

 

  Main har raat khawaisho ko Khud se pehle sula deta hu
Hairat yah hai ki har subah Ye mujhse pehle jag jati hai

मैं हर रात ख्वाईशो को खुद से पहले सुला देता
हूँ।
 हैरत यह है की हर सुबह ये मुझसे पहले जग जाती है।

 

Best shayari of gulzar

Best shayari of gulzar

Khulee kitaab ke safhe ulatate rahate hain
Hava chale na chale din palatate rahate hai

खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं।
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है।





Wo cheez jise dil kahate hain,
Ham bhool gae hain rakh ke kaheen

वो चीज़ जिसे दिल कहते हैं,।
हम भूल गए हैं रख के कहीं।






Kitanee lambee khaamoshee se guzara hoon
Un se kitana kuchh kahane kee koshish kee

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ।
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की।

 

Gulzar quotes in hindi
Aa rahee hai jo chaap qadamon kee
Khil rahe hain kaheen kanval shaayad

आ रही है जो चाप क़दमों की।
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद ।

 

Wo mohabbat bhee tumhaaree thee wo nafarat bhee tumhaaree thee
Ham apanee vafa ka insaaph kisase maangate wo shahar bhee tumhaara tha
vo adaalat bhee tumhaaree thee.

वो मोहब्बत भी तुम्हारी थी वो नफ़रत भी तुम्हारी थी।
हम अपनी वफ़ा का इंसाफ किससे मांगते वो शहर भी तुम्हारा था।
वो अदालत भी तुम्हारी थी ।

  Gulzar Hindi Shayari

Tujhe pahachaanoonga kaise? tujhe dekha hee nahin
Dhoondha karata hoon tumhen apane chehare mein hee kaheen
तुझे पहचानूंगा कैसे? तुझे देखा ही नहीं।
ढूँढा करता हूं तुम्हें अपने चेहरे में ही कहीं।

 

  Saamane aaya mere, dekha bhee, baat bhee kee
Muskurae bhee kisee pahachaan kee khaatir
Kal ka akhabaar tha, bas dekh liya, rakh bhee diya.

सामने आया मेरे, देखा भी, बात भी की।
मुस्कुराए भी किसी पहचान की खातिर।
कल का अखबार था, बस देख लिया, रख भी दिया।


Gulzar Shayari Quotes in Hindi
Gulzar Sahab ki Shayari

Tere jane se to kuchhh badla nahin,
Raat bhi aayi aur chhand bhi tha, magar nind nahin.

तेरे जाने से तो कुछ बदला नहीं,
रात भी आयी और चाँद भी था, मगर नींद नहीं।

 

   Uthae phirate the ehasaan jism ka jaan par
Chale jahaan se to ye pairahan utaar chale

उठाए फिरते थे एहसान जिस्म का जाँ पर।
चले जहाँ से तो ये पैरहन उतार चले।

 

 

 

...Read More Shayari

Post a Comment

Previous Post Next Post