Fikar (Fikr) shayari | Fikar Shayari In Hindi | Tumhari Fikar Shayari..

Rate this post
Fikar Shayari
Phir Uskee Fikar Kya Karana

 

Chod diya maine apane labjon main kisee ka jikar karna.
Jab koi aapko apna hee na samjhe to phir uskee fikar kya karana.




छोड़ दिया मैंने अपने लफ़्ज़ों में किसी का जिक्र करना,
जब कोई आपको अपना ही ना समझे तो फिर उसकी फिक्र क्या करना।
 
 
Fark bas itna hai ki wo baat
 
Jhalak urdu ki aane lagi hai aapki shasari me janab.
Fark bas itna hai ki wo baat nahi hai.

झलक उर्दू की आने लगी है, आपकी शासरी में जनाब ।
फर्क बस इतना है, कि वो बात नहीं है ।
 
 
Mere dilwar mere premi jid
 
Mere dilwar mere premi jid ab chodo ji.
Gustakhi maf karo mere dil se dil jodo ji.

मेरे दिलवर मेरे प्रेमी जिद अब छोड़ो जी।
गुस्ताखी माफ़ करो मेरे दिल से दिल जोड़ो जी।  

Hamen chod ke ab gair se

Aane ki baat nahi jane ki baat karo.
Hamen chod ke ab gair se mulakat karo.

आने की बात नहीं जाने की बात करो।
हमें छोड़ के अब गैर से मुलाकात करो।
 

Dekho khulla bajar ka hai

Dekho khulla bajar ka hai rasta.
Abhi na rakho hamse tu wasta.
 
देखो खुल्ला बाजार का है रास्ता
 अभी न रखो हमसे तू वास्ता







…Read More Shayari

नमस्कार मै हूँ Binod Singh, Hishayari.com मै आपका बहुत - बहुत स्वागत है। मै Author & Co-Founder हूँ। पेशे से Blogger और YouTuber हूँ, आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं Shayari, Status, Quotes, Sms उपलब्ध करवाते रहेंगे और site को Bookmark कर ले।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CATEGORY

close