Tera Intezaar Shayari | Intezaar Shayari, Quotes, Status | Intezar Shayari 2 Lines.

Posted on

Intezar Shayari

Ishq Ka Intezar Kaun Kare

Tera Intezaar Shayari | Intezar Shayari | Intezar Shayari 2 Lines.


Ishq ka intezar kaun kare.
Toot kar itna pyaar tumse kaun kare. 

इश्क का इंतज़ार कौन करे।
टूट कर इतना प्यार तुमसे कौन करे।

 

 Na hum khafa hain tum se meri jaan

Na hum khafa hain tum se meri jaan,
Na koi fariyad karte hain.
Ye jaan lo tum hum tumhein har pal yaad karte hain.

ना हम खफा है तुम से मेरी जान,
न कोई फरियाद करते हैं।
ये जान लो तुम हम तुम्हें हरपाल याद करते है।



Phir bhi kuchh hai jo kho gaya hai

Hari ghass aur hari ho gai hai,
Neela aasman aur bhi neela ho gaya hai
Phir bhi kuchh hai jo kho gaya hai.

हरी घास और हरी हो गई है।
नीला आसमान और भी नीला हो गया है।
फिर भी कुछ है जो खो गया है।

 

 

Meri jaan se bhi pyaare ho tum


Meri jaan se bhi pyaare ho tum,
Mere tamam hasraton ki manzil ho tum.

मेरी जान से भी प्यारे हो तुम।
मेरी तमाम हसरतों की मंजिल हो तुम।

 

Hazar koshish kare phir nahi ubharta

 
Kuch nahi thaharta, jo apne jajbaat ke samunder main doob jaye,
Hazar koshish kare phir nahi ubharta.

कुछ नहीं ठहरता जो अपने जज्बात के समुंदर में डूब जाये।
हजार कोशिश करे फिर नहीं उभरता।

 

Intezaar Status

Sun ney ka bahana kiya hai

Tujhe maloon hai sun ney ka bahana kiya hai,
Mai terey hizr main sadiyan guzaar sakta hon.

तुझे मालूम है सुन ने का बहाना क्या है।
मै तेरे हिज्र में सदियां गुजर सकता है।

 

Teri socho mai teri soch ke

 
Teri socho mai teri soch ke mehver mai kya hai,
Tu mujh se sunn teri khudi ki tamanna kiya hai.

तेरी सोचों में तेरी सोच के महवर में क्या है।
तू मुझ से सुन तेरी खुदी की तमन्ना क्या है। 

 

Wo bhi gubaar e khaak tha


Wo bhi gubaar e khaak tha hum bhi gubaar e khaak thay,
Wo bhi kahin bikhar gaya ham bhi kahin bikhar gaya.

वो भी गुब्बार ए खाक था हम भी गुब्बार ए खाक थे।
वो भी कहीं बिखर गया हम भी कहीं बिखर गये। 


Tujhe dekhne ko taras rahe hain

Tujhe dekhne ko taras rahe hain nayan.
Jitna ise samajhata hun utna hai bechain.

तुझे देखने को तरस रहे है नयन।
जितना इसे समझाता हूं उतना हैं बेचैन।

Chalti weriya nayan bhar ke dekh lo

 Chalti weriya nayan bhar ke dekh lo.
Nayan se nayan mila ke jara sek lo.

चलती वेरीया नजर भर के देख लो।
नयन से नयन मिला के जरा सेक लो।


Apne ahsaason mein meri parchhai

Apne ahsaason mein meri parchhai kyon talashtey ho.
Apne lafzon se aksar yeh faasley kyon tay karte ho.

अपने अह्साओं में मेरी परछाई क्यों तलाशते हो।
अपने लफ़्ज़ों से अक्सर यह फासले क्यों तय करते हो।

 

Tu intzar kare to kyu na aau main

 
Kabhi teri palkon me jhilmilau main.
Tu intzar kare to kyu na aau main.

कभी तेरी पलकों में झिल्मिलाऊ मैं।
तू इन्जार करे तो क्यों ना आऊ मैं। 

 

Mai tera jaat pe khud ko bhi waar

Mai tera jaat pe khud ko bhi waar sakta hai.
Us ek lamhe mai sadiyan ka gujar jana kiya hai.

मै तेरा ज़ात पे खुद को भी वार सकता है।
उस एक लम्हे मै सदियां का गुजार जाना किया है। 

 

E-hausla hum bhi rakha kartey hain

Aandhiyon mein bhi jaise kuch chirag jala kartey hain.
Utini hi himmat –e-hausla hum bhi rakha kartey hain.

आँधियों में भी जैसे कुछ चिराग जला करते हैं।
उतिनी ही हिम्मत –इ- हौसला हम भी रखा करते हैं।


Utni hi himmat e hausla hum bhi

Aandhiyon mein bhi jaise kuch chirag jala kartey hain.
Utni hi himmat e hausla hum bhi rakha kartey hain.

आंधियों में भी जैसे कुछ चिराग जला करते हैं।
उतनी ही हिम्मत ए हौसला हम भी रखा करते है।

Mom dil wo to pathar ho gayi

N socha n samjha kya mukdhar ho gayi.
Jise samajha tha mom dil wo to pathar ho gayi.

न सोचा न समझा क्या मुक्धर हो गयी।
जिसे समझा था मोम दिल वो तो पत्थर हो गयी।

 

Nibhata hai koi koi

 
Gire hue ful ko uthata hai koi koi.
Mohabbat bahut log karte hai par nibhata hai koi koi.

गिरे हुए फुल को उठता है कोई कोई।
मुहब्बत बहुत लोग करते है पर निभाता है कोई कोई।



Ae mere hamnasheen chal aur kahin

 
Ae mere hamnasheen chal aur kahin.
Is chaman maein ab apna guzara nahin.

ऐ मेरा हमनशीं चल और कहीं।
इस चमन में अब अपना गुज़ारा नहीं।

Itna darte hain to fir ghar se

Log har mod pe ruk ruk ke sambhalte kyu hain.
Itna darte hain to fir ghar se niklte kyu hain.

लोग हर मोड़ पे रुक –रुक के संभलते क्यों हैं।
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं।

 

Hum kbhi bichadne ka gum na hoga

 
Door rehkar bhi agar aate rahe sms apke.
Hum kbhi bichadne ka gum na hoga. 

दूर रहकर भी अगर आते रहे एस.एम.एस .आपके।
हमे कभी बिछदने का गम ना होगा।



Abhi zindagi ki kitab kholi thi

 
Abhi zindagi ki kitab kholi thi.
Aur na jane kitne imtehan aa gaye.

अभी जिंदगी की किताब खोली ही थी।
और ना जाने कितने इम्तेहान आ गये।

 

Zindagi mein mehman aa gaya

 
Kahan jana tha aur kahan aa gaya.
Zindagi mein mehman aa gaya.

कहाँ जाना था और कहाँ आ गये।
जिन्दगी में मेहमान बनकर आ गये। 

 

Har mod pe nai suruaat ho

 
Har mod pe nai suruaat ho sakti hai.
Kabhi bhi kahin par baat ho sakti hai.

हर मोड़ पे नै सुरुआत हो सकती है।
कभी भी कहीं पर बात हो सकती है। 

 

Khud ko waqt ka sikandar samjho

 
Jo mill gaya usse muqaddar samjho,
Khud ko waqt ka sikandar samjho.

जो मिल गया उससे मुक़द्दर समझो।
खुद को वक्त का सिकंदर समझो। 

Behti hawaon ko roka nahi

 
Behti hawaon ko roka nahi karte.
Jo beet gaya usko socha nahin karte.

बहती हवाओं को रोका नहीं करते।
जो बीत गया उसको सोचा नहीं करते। 

 

Mai unka naam lekar jita raha unhone

Saha na gaya ab ijam e mohabbat maine khud ko jaam me dubaa diya.
Mai unka naam lekar jita raha unhone mera naam tak bhula diya. 

सहा ना गया जब इन्जाम -ए-मुहब्बत, मैंने खुद को जाम में डुबा दिया ।
मैं उनका नाम लेकर जीता रहा, उन्होंने मेरा नाम तक भुला दिया।

 

Na jane kab milega itna hasin mouka

Ankhe bica di rahon me rasta bhitumhara roka.
Na jane kab milega itna hasin mouka.

आँखे बिछा दी राहों में, रास्ता भी तुम्हारा रोका ।
ना जाने कब मिलेगा, इतना हसीन मौका।

 

Bas meri jindegi mohini hai

Aap ka naam mohini hai bas meri jindegi mohini hai.
Sab kuch hai paas mere bas aapki kami mohini hai.

आप का नाम मोहिनी है, बस मेरी जिन्दगी मोहिनी है ।
सब कुछ है पास मेरे, बस आपकी कमी मोहिनी है। 

 

Tere dil se mai gam ko nikal bahar

Tere dil se mai gam ko nikal bahar fekungi.
Bata de pata thikan roj tujhse aake milungi.

तेरे दिल से मै गम को निकाल बाहर फेंकूँगी।
बता दे पता ठिकाना मै रोज तुझसे आके मिलूंगी। 


Dil ki wasiyat kisi ke naam

Aaj ham bhi ek nek kam kar aae.
Dil ki wasiyat kisi ke naam kar aae.

आज हम भी एक नेक काम कर आए।
दिल की वसीयत किसी के नाम कर आए।

 

Yahin nahi to mera imthan bhi

 
Yahin nahi to mera imthan bhi le le.
Dil  kya chij hai too meri jaan bhi le le.

यहीं नहीं तो मेरा इम्तहान भी ले ले।
दिल क्या चीज है तू मेरी जान भी ले ले।

 

Kisi ko chaha nahi tanha jie

 
Wo log bhi kya jindegi jie.
Kisi ko chaha nahi tanha jie.

वो लोग भी क्या जिन्दगी जिए।
किसी को चाहा नहितान्हा जिए।

 

Ye lijie khanjar meri imthan

 
Meri wafa ka khuda hi faisala kijie.
Ye lijie khanjar meri imthan lijie.

मेरी वफ़ा का खुद ही फैसला कीजिए।
ये लीजिए खंजर मेरी इम्तिहान लीजिए।

 

Hamesha badon ko aadar kiya

 
Hamesha badon ko aadar kiya karo.
Chr se nahiek se pyar kiya karo.

हमेशा बड़ों को आदर किया करो।
चार से नहीं एक से प्यार किया करो।

Kab se tera intjar karta

L love you kahne se kaam nahi chalta.
Bahon me aaja mai kab se tera intjar karta.

इ लव यू कहने से काम नहीं चलता
बाँहों में आजा मै कब से तेरा इंतजार करता

  Intezaar karo agar tamnna hai

Tummen chamta nahi kya aag bujhane ki.
Intezaar karo agar tamnna hai ishq ki.

तुममें छामता नहीं क्या आग बुझाने की
इन्तेजार करो अगर तमन्ना है इश्क पाने की

 To pyari karle intezaar

Mujhse hi shadi karna hai to pyari karle intezaar.
Aaunga doli pe too rahna karke sringar.

मुझसे ही शादी करना है तो प्यारी करले इंतजार
आऊंगा डोली पे तू रहना करके सृगर

 

 …Read More Shayari

 

Comments

0 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *