Best Prem Shayari | Prem Shayari In Hindi | Prem Shayari Photo.

Posted on

 Prem Shayari

Sada premi ki god me

Best Prem Shayari | Prem Shayari In Hindi | Prem Shayari Photo.
 Prem Shayari

Kamal khilti hai sada kichad ki kokh me.
Premika hansti hai sada premi ki god me.

कमल खिलती है सदा कीचड़ की कोख में।
पेमिका हंसती है सदा प्रेमी की गोद में। 

 

 

Prem ki bhookh mita leta hun

 Galiyan yaar ki aur kha leta hun.
Is tarah ham prem ki bhookh mita leta hun.
Wose baji ka shaikh agar hota to.
Tere foto ko aotho se laga leta hun.

गलियां यार की और जुतिया खा लेता हूँ।
इस तरह हम प्रेम की भूख मिटा लेता हूँ .
वोसे बाजी का शैख़ अगर होता तो
तेरे फोटो को ओठो से लगा लेता हूँ।

 

Wah tir chalana kya jane

Abhi to najuk lali hai, bhaure ko fasana kya jane.
Wah khud ki nishana ban chuki, Wah tir chalana kya jane. 

अभी तो नाजुक कलि है, भौरे को फ़साना क्या जाने।
वह खुद ही निशाना बन चुकी, वह तीर चलाना क्या जाने।

 


Band kamre me basa lun mai

Hawa sard hai khichki band kar lo,
Band kamre me basa lun mai.
Is nishan jiwan ko,
Pal Bhar me saral bana lun mai.

हवा सर्द है खिचकी बंद कर लो,
बंद कमरे में बसा लूँ मै।
इस निराश जीवन को,
पल भर में सरल बना लूँ मै।

 

प्रेम की बोली (Prem Ki Boli)

Mai bhooka hun pyar ka hai man bada nahi bada hi pan.
Mithi kewal baat hi hai doulat ka khan.

मैं भूका हूँ प्यार का है मान बड़ा नहीं बड़ा ही पान।
मीठी केवल बात ही, है दौलत का खान।। 

 

Tikhi boli sabko chubhti tir saman.
Prem ki boli bolie rahe sada ye dhyan.

तीखी बोली सबको, चुभती तीर सामान।
प्रेम की बोली बोलिए, रहे सदा ये ध्यान।। 

 

Mithya kawach n bolie hai ye pap mahan.
Saty ke aage jagat me sab dhan dhul saman.

मिथ्या कवच न बोलिए है ये पाप महान,
सत्य के आगे जगत में, सब धन धुल सामान।।

 

Mat kar shoukat shan moh maya ko tyag kare.
Tab hoga kalyan niti utatm rahie sachcha rahe mahan.
iInhin sab karyo se khush hoga bhagwan.
 
मत कर शौकत शान, मोह माया को त्याग करे,
तब होगा कल्याण निति उत्तम रहिए, सच्चा रखो इमान
इन्हीं सब कार्यो से खुश होगा भगवान।।

 



Ab mai sayani ho gai

 Unhen dekhkar mai diwani ho gai.
Lagta easa ab mai sayani ho gai.

उन्हें देखकर मै दीवानी हो गई।
लगता ऐसा अब मै सायानी हो गई। 

 

Saath chala tha mera saya banker

Dhoop main kho gaya who haath chura kar.
Ghar say jo saath chala tha mera saya banker.

धूप में खो गया वो हाथ छुड़ा कर।
घर से जो साथ चला था मेरा साया बनकर।

 

Jo prem nahi karne par aksar

Jo prem nahi karne par aksar jane de dete hai.
Wo prem se pahle anjam pa lete hai.

जो प्रेम नहीं करने पर अक्सर जाने दे देते है।
वो प्रेम से पहले अंजाम प् लेते है। 

 

…Read More Shayari

Leave your vote

Comments

0 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *